Sunday, 13 September 2015

खुमारी

इस खुमारी की वजह कोई बताए तो सही
बेचैन  है  दिल   कोई   समझाए   तो  सही ।

तुम जो मुझे पागल कहते हो अभी सम्भल जाऊँगा
उस  लड़की  से  दिल  मेरा  कोई  लाए  तो  सही ।

अब  तो दिल  जैसे कोई मन्दिर हो गया है
उसी को बिठाऊँगा इसमें वो आए तो सही ।

वादा  है   ऐ  शाकी  फिर हम तेरे दर न आएँगे
हमें अपनी नजरों से कभी कोई पिलाए तो सही ।

मै काफिर भी हो जाऊँगा मुझे परवाह नही
मेरे घर के मन्दिर में उसे कोई लाए तो सही ।।

Wednesday, 2 September 2015

चुनिंदा अशआर (two lines shayari)

१. तेरी याद में जलने से बेहतर था की भूल जाते
     पर  दिल  रौशनी का सवाली था सो जल गये ।।

२. तेरी  यादें  भी  हैं  अौर  तन्हाई  भी
     अब रोने में और भी मजा आता है ।।

३. दूर होते जो नज़रों से तो कुछ आैर बात होती
     तू  जो  सामने  है  तो  फिर  कैसे  भूल जाऊँ ।।

४. जान  मुँह  को  आ  जाए  मत  छेेड़  इतना
    ज्यादा हद  से चाहना भी अच्छा नहीं होता ।।

५. वो  गोलियाँ  भूले,  शहर भूले,  गुलिस्तां भूले
     पर याद ज़हन में सिर्फ तेरा चेहरा रह गया है ।।

६. यूँ  सरे-शाम  तन्हा   ना  कर  ऐ   हमसफर
    गुजरने के लिए तो अभी सारी रात बाकी है।।

७. तुझे पलट के आना पड़ेगा ऐ चारागर
     जख्मों  को  यहां   कौन   भरने  देगा ।।

८. अबके    बिछड़े    तो     वो    रोएंगे
     कबल में हमने आँसू बहाए बहुत थे ।।

९. इश्क,    मोहब्बत,    प्यार,    वफा
     और क्या हम तुझसे फरियाद करे ।।

१०. इस उम्मीद  में  "आशिक़"  तुझसे  प्यार  करते  रहे
       कभी तो दिल बदलेगा कभी तो मुझसे प्यार करोगे

११. हर  बात  पर देते  हैं  लोग  मिसाल हमारी
       बेमिसाल कहता था मुझे मेरा चाहने वाला ।।

१२. कू ब कू  तेरे  नाम  के तराने गूँज रहे हैं
       बस एक मेरा दिल है जो उदास बैठा है ।।

१३. अबके  आना  तो  जरा  जल्दी  आना
       कि इंतजार की रूत बड़ा दुख देती है ।।

सवाली- मांगनेवाला
सरे-शाम- शाम की शुरुआत
चारागर- तीमारदार ( यहाँ पर मतलब है महबूब से)
कबल- past
कू ब कू- चारों तरफ/कोना कोना/हर तरफ

आशिक़- तख़ल्लुस (शायर का वो नाम जो वो अपने                  शायरी मे लिखता है मै ये लिखता हूँ ।)

Wednesday, 6 May 2015

बातें

शाम      ढले     कहीं      मिलते
चाँद के हमराह दूर तलक चलते

कुछ तुम्हारी बातें होती
कुछ हमारी बातें होती

गर होती कुछ दिल आजार बातें
तुम रूठ जाते हम मनाया करते

गवाह   हो   जाते    वही  चाँद  सितारे
जमाने के सामने गर तुम इकरार करते

Friday, 1 May 2015

आसमान

वो शख्स  जिसपे  तुझको  गूमान बहुत है
मुझे भी उससे मिलने का अरमान बहुत है

ठहर जरा बता आऊँ जिसने मेरा छत गिराया
मेरे  सर  पे  साये   के लिए आसमान बहुत है

माँ  से  अपनी  दुआ मिले, बीवी  से  वफा
जिन्दा रहने के लिए इतना सामान बहुत है

Thursday, 23 April 2015

बाजी़

हमें दौड़ना ही था उम्र भर एक ग़ज़ाल के पीछे
तेरी कब़ा में तो कुछ सितारे भी थे

किस बिना पर अपने हक़ के लिए हुज़्ज़त करते
एक बाजी तो हम उससे हारे भी थे ll

ग़ज़ाल- mirage
कब़ा- झोली

Saturday, 18 April 2015

राज

कई    राज     जो दफ्न हैं इस  दिल  में
निकल आते हैं कभी कभी आँसू बनकर

सँजोए थे कुछ ख्वाब जो हमने आँखों में
सताते  हैं  वही मुझे, मेरी आरजू  बनकर

मुझे  देखकर  लोग  क्यूँ  न  तेरा नाम लें
तेरा  हर  रंग  है  मुझमें,  मेरी  खू बनकर

तेरी  तलाश  में  अौर  नही भटका जाता
चले  आअो  तुम  मेरी  जुस्तजूँ   बनकर

खू-  आदत
जुस्तजूँ- खोज

Wednesday, 15 April 2015

इशारा

कभी दिल से दिल मिला कर तो देख
सांसें थम न जाये तो कहना, धड़कनें बढ़ न जाये तो कहना ।

सिर्फ एक इशारा ही काफ़ी है
ये पागल मर न जाये तो कहना ।

हम मुन्तज़िर हैं कि कब तू इक़रार करे ।
तेरे इश्क़ फिर में हद से गुजर न जाये तो कहना  ।

 न डर ज़माने से तू मुझे बुला तो सही
तुझे लेने तेरे घर न जाये तो कहना ॥

Sunday, 12 April 2015

आरजू

दिल  ने सीख  लिया  हर बात पे मचलना
आरजूएं थका देती हैं कहां तक है चलना

उलफत-ए-हयात  की ये कशमकश कैसी
जीना    अच्छा     लागे    है    न    मरना

हयात- जिन्दगी

Saturday, 11 April 2015

ईद

तेरे एहसास से खाली न कोई दिन गुजारा है
न तेरे ख्वाब से खाली कोई  निन्द  गुजारा है

तू सह  न सका हमसे  एक  पल  की जुदाई
तेरी   हिज्र  मे   हमने  कई   ईद   गुजारा है

हिज्र- जुदाई

Thursday, 9 April 2015

मर्ज

रोये बहुत हम तो पर जी कुछ हल्का न हुआ
मेरे  मर्ज का  अब  तक  कुछ  दवा  न  हुआ

आईए हमारे बेबसी का तमाशा देख लीजिए
क्या   कहिएगा   कि   कुछ   मजा   न  हुआ

उम्र  भर  जो अपने  पारशाई  का दावा किए
उन्हीं  से सरजद अब तक कुछ वफा न हुआ

अब  इंसाफ की किसे उम्मीद है इस वतन मे
वतन  के  गद्दारों  को जब कुछ सजा न हुआ

Wednesday, 8 April 2015

पागल

चाहोगे उसे इतना तो     बदल जाओगे
दुनिया की नज़र में पागल कहलाओगे

क्यूं   करते   हो   ज़िद       बच्चों    सा
चांद  पर  क्या  तुम      पैदल  जाओगे

चलो समझा लो दिल को    क्यूं रोते हो
करोगे  कोशिश  तो    सम्भल  जाओगे

मत चाहो उसे कि    वो शम्स-सिफ़त है
जाओगे नजदीक उसके तो पिघल जाओगे

मेरे मनाने से "आशिक" मानता हीं नही
क्यूं समझाने अब तुम  "सजल" जाओग

(सजल)

Tuesday, 7 April 2015

दरबदर

क्यूँ न जाने हुक्कामों ने उसे दरबदर कर दिया
हालाँकि शहर में वो किसी से कमतर न था ।।